Welcome to studycart foundation

Be part of the community and join us today!

career in horticulture

हॉर्टिकल्चर का सामान्य मतलब गार्डनिंग से सम्बंधित विज्ञान माना जाता है परन्तु इसका दायरा बहुत विस्तृत है। इसका सम्बन्ध फल, सब्जियाँ, मसाले, फूल तथा सभी तरह के मेडिसिनल प्लांट्स के उत्पादन से है।
 
देश की आधी से अधिक आबादी के लिए कृषि, रोजगार का एक प्रमुख जरिया है तथा उसमे हॉर्टिकल्चर प्रमुख है। बढ़ते हुए निर्यात की वजह से सरकार इसे बहुत प्रोत्साहित कर रही है तथा पिछले पाँच वर्षों में देश में हॉर्टिकल्चर उत्पादों का उत्पादन लगभग 25 प्रतिशत बढ़ा है। इस बढ़ते हुए क्षेत्र में छात्रों के लिए करियर की बहुत संभावनाएँ हैं।
 
फ्लोरीकल्चर, ओलेरीकल्चर तथा पोमोलोजी, हॉर्टिकल्चर की तीन प्रमुख शाखाएँ होती है। फ्लोरीकल्चर का सम्बन्ध फूलों के उत्पादन, ओलेरीकल्चर का सम्बन्ध सब्जियों के उत्पादन से तथा पोमोलोजी का सम्बन्ध फलों के उत्पादन से होता है। हॉर्टिकल्चर का कोर्स करने वाले छात्रों के लिए सरकारी तथा निजी दोनों क्षेत्रों में अवसर मौजूद होते हैं।
 
सरकारी क्षेत्र में टीचिंग तथा रिसर्च के अलावा डिस्ट्रिक्ट हॉर्टिकल्चर ऑफिसर के रूप में भी बहुत अवसर मौजूद होते हैं। निजी क्षेत्र में ट्रेनिंग, मार्केटिंग तथा जर्नलिज्म आदि में अवसर मिल सकते हैं। उद्योग लगाने पर सरकार की तरफ से भी बहुत सब्सिडी, ट्रेनिंग आदि मिलती है।
 
हॉर्टिकल्चर के यूजी तथा पीजी स्तर के कोर्स देश के बहुत से संस्थानों में मौजूद हैं। विज्ञान विषय के साथ बारहवीं करने वाले छात्र इसके अंडरग्रेजुएट तथा विज्ञान विषय के साथ बैचलर डिग्री लेने वाले छात्रों को इसके पोस्टग्रेजुएट स्तर के कोर्स में प्रवेश मिल सकता है।
 
इस फील्ड में शुरुआती सालाना पैकेज लगभग 3 से 4 लाख रुपये का होता है तथा अनुभवव बढ़ने के साथ-साथ पैकेज भी बढ़ता जाता है। रिसर्च में पैकेज ज्यादा होता है परन्तु उसके लिए कम्पटीशन भी अधिक होता है। समय-समय पर इंडियन कौंसिल ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च द्वारा साइंटिस्ट के पदों पर भी नियुक्ति निकाली जाती है।
 
career in horticulture


on January 12 at 9:32

Comments (0)