User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

career in investment banking

इन्वेस्टमेंट बैंकिंग में करियर
career in investment banking

भारत में इन्वेस्टमेंट बैंकिंग की क्षमता लगभग दस हजार अरब रूपए की है तथा इसकी सालाना वृद्धि लगभग पंद्रह से सत्रह प्रतिशत की है। इन्वेस्टमेंट बैंकिंग की शुरुआत अमेरिका में हुई थी तथा विकसित भी वहीँ हुई, परन्तु 2008 की आर्थिक मंदी ने इसकी विकास दर को काफी कम कर दिया था। वैश्विक मंदी में भारत वृद्धि दर की इस तेज गिरावट से काफी हद तक बचा रहा।

भारत में बैंकिंग तथा फिनेंसिअल क्षेत्र के तेजी से विस्तृत होने की वजह से यह क्षेत्र छात्रों के करियर का एक बेहतर विकल्प हो सकता है। अगले पाँच वर्षों में इस क्षेत्र से लगभग चालीस-पचास हजार नौकरियाँ पैदा होने का अनुमान है।

इन्वेस्टमेंट बैंक का प्रमुख कार्य कंपनियों को फण्ड जुटानें में मदद तथा अन्य कार्यों में कॉर्पोरेट सेक्टर के लिए इक्विटी के जरिये पूँजी जुटाना, डेट सिक्यूरिटी, मर्जर और एक्वीजीशन आदि है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने पहले इन्वेस्टमेंट बैंकिंग डिवीजन की शुरुआत 1972 में की थी। आज देश में सेबी से मान्यता प्राप्त लगभग तीन सौ से अधिक इन्वेस्टमेंट बैंक है।

बैंकिंग, कॉर्पोरेट, स्टार्टअप तथा ई-कॉमर्स आदि सभी बहुत तेजी से बढ़ते हुए क्षेत्र है जिनमे इन्वेस्टमेंट बैंकिंग की जरूरत बढ़ रही है। भारत में इन्वेस्टमेंट बैंक की ऑपरेशनल कास्ट अमेरिका तथा अन्य यूरोपियन देशों के मुकाबले बहुत कम है तथा यहाँ इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ-साथ वर्कफोर्स के लिए भी लागत काफी कम है।

इन्वेस्टमेंट बैंकिंग इंडस्ट्री कई क्षेत्रों में बँटी हुई है जैसे कॉर्पोरेट फाइनेंस, रिटेल बैंकिंग, स्ट्रक्चर्ड फाइनेंस आदि। हर क्षेत्र की कंपनियों में इन्वेस्टमेंट बैंकिंग की आवश्यकता होती है। आवश्यक योग्यता हासिल करने के पश्चात कोई भी अभ्यर्थी सिक्यूरिटी एनालिस्ट, फिनेंसिअल अनालिस्ट, फिनेंसिअल एडवाइजर तथा इक्विटी रिसर्चर आदि के पदों पर नियुक्ति पा सकता है।
इन्वेस्टमेंट बैंकिंग इंडस्ट्री में नियुक्ति पाने के लिए फाइनेंस में स्पेशिअलाईजेशन के साथ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में बैचलर डिग्री की आवश्यकता होती है। इसके पश्चात एमबीए फाइनेंस की डिग्री लेकर इस क्षेत्र में अच्छी नौकरी पाई जा सकती है।

इस क्षेत्र में नौकरी पाने वाले को शुरूआती वेतन लगभग तीन चार लाख सालाना तक मिल जाता है फिर जैसे-जैसे अनुभव बढ़ता है वैसे-वैसे तनख्वाह बढती जाती है। अच्छे अकेडमिक बैकग्राउंड तथा ट्रैक रिकॉर्ड वाले अभ्यर्थी के लिए इस क्षेत्र में अपार संभावनाएँ मौजूद हैं।